गठबंधन ऐलान के 23 दिन बाद नहीं हो सका सीटों का बँटवारा,...

गठबंधन ऐलान के 23 दिन बाद नहीं हो सका सीटों का बँटवारा, ये है मुख्य वजह

153
0
SHARE
sp bsp alliance

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी में गठबंधन का ऐलान हो चुका है. लखनऊ में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में अखिलेश और मायावती ने कहा कि दोनों पार्टियां 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. इस ऐलान के 23 दिन बाद भी दोनों में अब तक सीटों का बंटवारा नहीं हो सका है. इसके पीछे सियासी गलियारों में कई तरह की बातें की जा रही है.

सीट बंटवारे पर फंसा पेंच :

सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है कि प्रदेश की 60 से ज्यादा सीटों पर दोनों पार्टियों के बीच सहमति बन गई है वहीँ लगभग एक दर्जन सीटें ऐसी हैं जिन पर दोनों ही अपने-अपने तर्कों के साथ अपना दावा जता रहे हैं. कहा जा रहा है कि बसपा ने पश्चिमी यूपी में कई ऐसी सीटों पर दावा जताया है जिन पर 2014 में सपा दूसरे नंबर पर रही थी.

इन सीटों में नगीना (सुरक्षित) सीट भी शामिल हैं जहां से बसपा मायावती के चुनाव लड़ने के कयास लग रहे हैं. इसी तरह बिजनौर सीट भी बसपा चाहती है और मध्य यूपी की कुछ सीटों के साथ ही पूर्वांचल की आधा दर्जन सीटों पर भी दोनों दल अपना दावा कर रहे हैं.

प्रियंका फैक्टर तो नहीं देरी की वजह :

सियासी गलियारों में ये चर्चा जोरों पर है कि सपा-बसपा गठबंधन में सीटों के बंटवारे में देरी के पीछे कहीं प्रियंका वाड्रा का सक्रिय राजनीति में आना तो नहीं है ? फिलहाल प्रियंका गांधी के सक्रिय होने के बाद कुछ सीटों में फेरबदल भी हो सकता है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY