प्रतापगढ़: ODF घोषित गांव में खुलेआम हो रहा सरकारी धन का दुरुपयोग

प्रतापगढ़: ODF घोषित गांव में खुलेआम हो रहा सरकारी धन का दुरुपयोग

185
0
SHARE
odf declared village

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के अधिकतर विकास खण्डों मे खुले मे शौच मुक्त की हकीकत बहू-बेटियां दूर न जाएं, शौचालय घर में ही बनवाएं…’ यह नारा जागरूकता रैलियों की तख्तियाें और कागजों तक ही सीमित रह गया है। गांवों में खुले में शौच का जारी रहना कुछ इसी ओर संकेत कर रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत गांवों में बन रहे शौचालय अभी भी अधूरे पड़े हुए हैं, जबकि अफसरों ने अधूरे शौचालय को भी कागजों में पूर्ण दिखा दिया लेकिन हकीकत में लोग खुले में शौच जाने को मजबूर हैं।

कई शौचालय पड़े अधूरे :

जिले के बिकास खंड बाबागंज अन्तर्गत ग्राम सभा बेहलामयी भरदारपुर की हकीकत सामने नजर आ रही है। करीब आधा दर्जन से अधिक शौचालय अधूरे पाए गए जिसमें कई शौचालय का दरवाजा टूट गए है। दर्जनों शौचालयों मे तो टैंक भी नही बनवाया गया।

प्रधान ने ठेकेदार को ठेका दे दियाऔर उसने पीली ईट से ढाचा बनाकर नाम लिखवा दिया। बस बन गया शौचालय किसी ने शिकायत की भी तो ठेकेदार ने जांचकर्ता की फीस प्रधान के पास छोड़ ही रखा है क्योंकि इस गांव मे चार हजार रूपये की लागत से अधिक का कोई शौचालय बना ही नहीं है।

भ्रष्टाचार की चढ़ा भेंट :

वही ग्रामीणो का कहना है कि अधिकारियों की लापरवाही के चलते स्वच्छ भारत अभियान भ्रष्टाचार की भेंट चढ रहा है। अब तक स्वच्छ भारत अभियान के तहत अपनी जेब भरने वाले अनेकों ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारियों पर जहां कार्रवाई की जा चुकी है वहीं जिम्मेदार इन सभी को अनदेखी कर अभियान को पलीता लगाते दिख रहे हैं।
शौचालय के लाभार्थियों को उम्मीद थी कि शौचालय बन जाएगा तो उनका गांव शौच मुक्त होगा प्रधान के ठेकेदार ने अधूरा शौचालय बनाकर छोड़ दिया जिससे ग्रामीणों को शौच करने में बेहद समस्याओं सामना करना पड़ रहा है।

रिपोर्ट: अखिलेश तिवारी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY