लोकसभा चुनाव के सबसे बड़े चरण में दर्ज की गई सबसे कम...

लोकसभा चुनाव के सबसे बड़े चरण में दर्ज की गई सबसे कम 66 फीसदी वोटिंग !

694
0
SHARE

मंगलवार को लोकसभा चुनाव के तीसरे और सबसे बड़े चरण के लिए मतदान हुआ। इसके साथ ही लोकसभा की 543 सीटों में से 302 यानी आधी से ज्यादा सीटों पर वोटिंग खत्म हो गई हैं।

चुनाव आयोग के मुताबिक तीसरे चरण में करीब 66 फीसदी मतदाताओं ने अपने मतआधिकारों का प्रयोग किया। हालांकि पिछले दो चरणों के मुकाबले ये संख्या कुछ कम रही। असम के धुबड़ी में सबसे ज्यादा जबकि जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में सबसे कम मतदान हुआ।

 

इस बीच देशभर में ईवीएम के गड़बड़ी की खबर भी सुर्खियों में रही, ईवीएम में गड़बड़ी पर कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, माकपा, भाकपा और द्रमुक ने रोष प्रकट कर चिंता जाहिर की।

इस लोकसभा चुनाव में अमित शाह भी गांधीनगर से अपनी किस्मत आजमा रहे है, जहां तीसरे चरण में 64.95% वोट पड़े हैं। वही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की चुनावी सीट वायनाड  से 73.29% मतदान दर्ज किया गया। तीसरे चरण की 117 सीटों में से भाजपा का लक्ष्य अपनी 62 सीटों को बचाने का होगा, जहां भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव मे जीत हासिल की थी। इसलिए यह चरण भाजपा के लिए काफी अहम हेैं। वही कांग्रेस पिछले लोकसभा चुनाव में 116 साटों में से सिर्फ 16 ही हासिल कर पाई थी। इसलिए इस बार राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस, भाजपा को पटकनी देना चाहेगी।

लेकिन गुजरात प्रधानमंत्री मोदी का गृह राज्य होने के कारण भाजपा इस बार भी गुजरात की सभी सीटों पर जीत हासिल करने की उम्मीद लगाए बैठी हैं। लेकिन दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस ने 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को कड़ी चुनौती दी थी, इसलिए कांग्रेस भी 10 से 15 सीटों पर इस बार जीत की उम्मीद कर रही हैं।

अब आगामी 29 अप्रैल को लोकसभा के चौथे चरण की 71 सीटों पर मतदान होना हैं, जिसमें बिहार (5), जम्मू कश्मीर (1), झारखंण्ड (1), मध्यप्रदेश (6), महाराष्ट (17), राजस्थान (13), यूपी (13), बगांल (8) और ओडिशा (6) शामिल हैं। जहां आम जनता नेताओं और उनकी पार्टी का भाग्य तय करेगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY