भारत में भीषण तबाही मचा सकता हैं चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ !

भारत में भीषण तबाही मचा सकता हैं चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ !

187
0
SHARE

बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ प्रचंड रूप ले चुका है। यह तूफान भारत में भीषण तबाही का मंजर फैला सकता हैं। फिलहाल यह तूफान ओडिशा के 760 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम और विशाखापत्तनम के 560 किलोमीटर दक्षिण- दक्षिणपूर्व तथा त्रिणकोमली के 660 किलोमीटर उत्तर-उत्तरपूर्व में है। इसके शुक्रवार दोपहर तक ओडिशा के तट पर गोपालपुर और चांदबली के बीच से गुजरने की आशंका है।

विशेषज्ञों के अनुसार उस समय इस तूफान की अधिकतम रफ्तार 175 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे के आसपास होगी जो 205 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है। इस बीच ओडिशा में अलर्ट जारी करते हुए स्कूल-कॉलेजों की 2 मई तक छुट्टी कर दी गई है, और पर्यटकों को पुरी छोड़ने की भी सलाह दी गई है, भारतीय मौसम विभाग ने ओडिशा के लिए ‘येलो वॉर्निंग’ जारी कर दी है। साथ ही भारतीय नौसेना और एनडीआरएफ को राहत कार्यों को लेकर हाई अलर्ट पर रखा गया है।

तूफान ‘फोनी’ के अगले 24 घंटे में ‘बेहद तीव्र’ होने की आशंका है, जिससे आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में गुरुवार तक भारी बारिश होगी, मौसम विभाग आईएमडी ने चेतावनी दी है कि चक्रवात से घरों, संचार और बिजली नेटवर्क और रेल और सड़क यातायात को नुकसान होने की संभावना है, साथ ही खड़ी फसलों, बागवानी और नारियल और ताड़ के पेड़ों को भी काफी नुकसान पहुंच सकता हैं।

बताया जा रहा है केन्द्र सरकार की ओर से तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल को एहतियातन और राहत कार्यों में मदद के लिए पहले ही 1,086 करोड़ रुपये की वित्तीय राशि जारी कर दी गयी है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि तूफान से बचने के ए‍हतियाती कदम उठाए जा सकें और जरूरत पड़ने पर राहत कार्यों में कोई बाधा न आए।

आपात स्थितियों से निपटने के लिए देश की शीर्ष संस्था राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) ने मंगलवार को दूसरी बार बैठक की और चक्रवाती तूफान से पैदा होने वाली स्थिति से निपटने के लिए राज्यों और केंद्र सरकार के संबंधित विभागों की तैयारी की समीक्षा की। एनडीआरएफ ने आंध्र प्रदेश में 41 टीम, ओडिशा में 28 और पश्चिम बंगाल में पांच टीम तैनात की है।

 

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY