ये सेल्फी का नशा लेगा कितनों की जान !

ये सेल्फी का नशा लेगा कितनों की जान !

196
0
SHARE

जुनून होना अच्छी बात है लेकिन जुनून मे होश खो बैठने से कई बार ऐेैसे हादसे हो जाते हैं जिसकी कीमत इसांन को उसकी जान देकर ही चुकानी पड़ती हैं।

सेल्फी लेने के जुनून में अपनी जान गंवा देने वालों की तालिका बहुत लंबी है, ऐसे कई लोगों की खबरें आपने अक्सर सुनी होगी जो सेल्फी लेते वक्त किसी न किसी हादसे का शिकार हो गए, कोई डूब कर मर गया, कोई चलती ट्रेन से गिर गया, तो किसी ने अपनी जान ऊंची जगह से गिरकर गंवा दी।

हाल ही में ऐसा ही एक वाकया हरियाणा के पानीपत से उजागर हुआ हैं, जहां पानीपत रेल्वे स्टेशन से दो-तीन किलोमीटर दूर रेलवे पटरी पर सेल्फी ले रहे तीन युवक एक ट्रेन की चपेट में आ गए जिससे उनकी मौत हो गयी, राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) ने बुधवार को इसकी जानकारी दी थी।

पानीपत में हुए उस झकझोर देने वाले हादसे को अभी 48 घंटे भी नही हुए थे और सेल्फी से मौत की एक और घटना सामने आई आ गई, खबर मुंबई से हैं – जहां एक शख्स काफी ऊंची इमारत पर खड़े होकर सेल्फी खींचने की कोशिश करते हुए, नीचे गिर गया और घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई।

अमेरिका की कार्नेगी मिलान यूनिवर्सिटी और इंद्रप्रस्‍थ इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी, दिल्‍ली द्वारा किए गए शोध में यह दावा किया गया है। आपको बता दें कि मी माइसेलफ एंड माई किलफी नाम से पिछले वर्ष नवंबर में आई थी। इस रिपोर्ट में मार्च 2014 से सितंबर 2018 के बीच में विश्‍व में सेल्‍फी लेने के दौरान हुई मौत की घटनाओं को शामिल किया गया था। इस अवधि के दौरान विश्‍व में करीब 127 लोग मारे गए जिसमें अकेले 76 लोग भारतीय हैं। यह कुल मौतों का करीब 60 फीसद है। इस सूची में भारत के बाद पाकिस्‍तान का दूसरा नंबर है। वहां इस अवधि में नौ मौतें हुईं। वहीं अमेरिका की बात करें तो वह तीसरे नंबर पर है। इस अवधि में वहां पर आठ मौते हुईं। इस तरह की मौतों के लिए सीधे तौर पर हम खुद ही जिम्‍मेदार होते हैं। इसकी वजह कहीं न कहीं हमारा लापरवाह होना भी है जो हमें मौत के मुंह में धकेल देता है।

सेल्‍फी को लेकर कई तरह के शोध सामने आए हैं। सोशल मीडिया पर खुद को अपडेट रखने का पागलपन भी इसका एक बड़ा कारण है। आपने भी लोगों को रेलवे लाइन, बस स्‍टेंड या एयरपोर्ट पर सेल्‍फी खींचते जरूर देखा होगा। यह इस बात का साफ संकेत है कि हम अपने और अपने परिवार के प्रति पूरी तरह से लापरवाह हो चुके हैं और बनावटी दुनिया में जीवन जी रहे हैं। जहां सोशल मीडिया सबसे आगे हो गई है। खासतौर पर युवा पीढ़ी तो इसके पीछे पूरी तरह से पागल हो चुकी है।

 

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY