दुनिया के अन्य फिल्मी संस्थाओं के साथ मिलकर फिल्म जगत को समृद्ध...

दुनिया के अन्य फिल्मी संस्थाओं के साथ मिलकर फिल्म जगत को समृद्ध बनाना है: संदीप मारवाह

433
0
SHARE

नोएडा के मारवाह स्टूडियो में आयोजित तीन दिवसीय 12 वें ग्लोबल फिल्म फेस्टिवल का आज तीसरा दिन बहुत ही भव्य रहा। कार्यक्रम की शुरुआत भारतीय परंपरा की गौरव गाथा को सजाते हुए गणेश वंदना एवं दीप प्रज्वलन के साथ की गई। कार्यक्रम का उद्देश्य फिल्मों के माध्यम से भारतीय सभ्यता संस्कृति एवं ऐतिहासिक गौरव गाथा को दुनिया के सामने प्रस्तुत करना और दुनिया के अन्य फिल्मी संस्थाओं के साथ मिलकर फिल्म जगत को समृद्ध बनाना है।

इस कार्यक्रम में देश विदेश के फिल्म जगत से जुड़ी हुई कई नामचीन हस्तियों ने भाग लिया जिसमें मुख्य रूप से पाओलस कोरनी, करमा तेसरिंग, डॉ रघुनाथ महंत, डरिनो गोर्डिंको, नाज़ जोशी, श्रेष्ठा बनर्जी, ICMEI के प्रेसीडेंट संदीप मारवाह आदि रहे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ICMEI के प्रेसीडेंट संदीप मारवाह ने कहा कि मारवाह स्टूडियो एक ऐसा प्रतिष्ठित संस्थान है जहां पर दुनिया के कई देशों के उच्चायुक्त आकर अपने व्याख्यान से यहां के बच्चों को प्रोत्साहित करते हैं और भारतीय कला संस्कृति को जानने की कोशिश भी करते हैं। हमारे लिए बड़े ही सौभाग्य की बात है कि प्रतिवर्ष दुनिया के लगभग 105 से भी अधिक देशों के मेहमान मारवाह स्टूडियो में शिरकत करते हैं।

संदीप मारवा जी ने कहा कि इससे बड़ी गर्व की बात और क्या हो सकती है कि राष्ट्रपति भवन के बाद अगर दूसरे देशों के उच्चायुक्त कहीं पर आते हैं तो वह है मारवाह स्टूडियो इसके लिए हम सभी देशों के उच्चायुक्त विशिष्ट अतिथियों का हृदय से आभार व्यक्त करते हैं।

कार्यक्रम में शामिल हुई नाज जोशी (ट्रांसजेंडर मिस वर्ल्ड डायवर्सिटी) ने कहा कि आगे बढ़ने के लिए अपने टीचर पर अपने निर्देशक पर हमें पूरा विश्वास करना चाहिए तभी हम आगे बढ़ सकते हैं।

एशियन एकेडमी ऑफ फिल्म एंड टेलीविजन से पढ़कर भूटान के फिल्म एंड टेलीविजन के प्रेसिडेंट तक का सफर तय करने इसके करमा तेसारिंग जी ने कहा कि हमें अगर ऐसा प्लेटफॉर्म ना मिला होता तो शायद हम इतने ऊंचाई तक नहीं पहुंच पाते इसलिए जिंदगी में अच्छे संस्थान का चुनाव करना बहुत अहम माना जाता है।

पापुआ न्यू गिनी से आए हुए मुख्य अतिथि ने कहा कि हम जल्द ही भारत और पापुआ न्यू गिनी के बीच फिल्म बनाने का प्रयास करेंगे हमारा कल्चर बहुत यूनिक है जो पीस यूनिटी और प्रोस्पेरिटी का मैसेज देता है। इससे दोनों देशों के बीच संबंधों में और भी मजबूती आएगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY