जिसका कोई नहीं उसके मददगार हैं बिहार के पत्रकार कुणाल सिंह |

जिसका कोई नहीं उसके मददगार हैं बिहार के पत्रकार कुणाल सिंह |

450
0
SHARE
Whom none of his assistants are Bihar journalist Kunal Singh.

(गड़हनी, भोजपुर-आरजेएस पाॅजिटिव मीडिया-बिहार)
“जिसका कोई नहीं होता उसका खुदा होता है” लावारिश फिल्म का ये गीत
गड़हनी के सीओ आॅफिस में सार्थक हो गया।
निराशा हो चुकीं एक विधवा को मुआवजा दिलाने में एक पत्रकार कुणाल सिंह ने निस्वार्थ बहुत मदद की और आज विधवा को पति की आकस्मिक दुर्घटना मृत्यु का मुआवजा मिल गया।

संदेश थाना के पंडुरा गांव निवासी अभिजीत कुमार ने आरजेएस पाॅजिटिव मीडिया को बताया कि बिहार के गड़हनी थाना में बड़ौरा पंचायत के गौरा गांव निवासी श्रीमती कुंती देवी के पति स्व० सुरेश प्रसाद सिंह का 29अप्रैल 2018 को सड़क दुर्घटना में आकस्मिक मृत्यु हो गई थी।
उनके फूफा सुरेश प्रसाद सिंह दो साल पहले मोटरसाइकिल से बारात जा रहे तभी सहार थाना के खैरा मोड़ पर बालू लदे एक ट्रक से जोरदार धक्का लग गया और फूफा जी सुरेश प्रसाद सिंह जी की असामयिक मृत्यु हो गई ।

घर में कमाने वाला कोई नहीं था। तो हम अपनी बुआ कुंती देवी के साथ सीओ ऑफिस गड़हनी में आकस्मिक दुर्घटना में मृत्यु के मुआवजा के लिए आवेदन किए ।सीओ ऑफिस गड़हनी के कर्मचारी कई महीनों तक टालमटोल करते रहे । दौड़-धूप करनेवाला बुआ के घर में कोई नहीं था तो मैंने छे महीने तक काफी मशक्कत की लेकिन सफलता नहीं मिली थी।इससे मेरी पढ़ाई भी प्रभावित हो रही थी।निराश और चिंतित अवस्था में गड़हनी सीओ आॅफिस में बैठे थे तभी अचानक भगवान के रूप में हमें पत्रकार कुणाल सिंह मिले ।वह अपरिचित थे लेकिन उन्होंने मुझे चिंतित देखकर पूछा और जब मैंने बताया कि ऐसी बात है तो उन्होंने मेरी पूरी सहायता की । उनके ही मार्गदर्शन से और फिर उन्होंने ऊपर के कई अधिकारियों से भी बात की और मुआवजे की राशि स्वीकृत करवा दी। मेरी जिंदगी का पहला अनुभव था कि दुनिया में आज भी ऐसे चरित्रवान और ईमानदार लोग हैं। उन्हीं के सद्प्रयास‌ से पिछले 14फरवरी को मेरी बुआ को चार लाख रूपये की मुआवजा राशि सीओ ऑफिस से मिल‌ गई। इस दौड़ धूप में उनका कुछ पैसा खर्च भी हो गया। मुआवजा मिलने पर जब हमारी बुआ कुछ देने लगीं तो उन्होंने कहा ये हमारी सकारात्मक पत्रकारिता का फर्ज है बुआ जी। आप हमारी भी बुआ हैं।आप खुश रहिए और आशीर्वाद दीजिए।
अभिजीत ने कहा कि हम कुणाल सिंह जी के बहुत ही आभारी हैं कि दुनिया में ऐसे भी लोग होते हैं जो निस्वार्थ भाव से समाज में सकारात्मक कार्य कर देते हैं।
विदित हो कि ये वही पत्रकार कुणाल सिंह हैं जिन्होंने गड़हनी में उपेंद्र केसरी की दुकान में काम करनेवाले की मां का पटना प्राइवेट अस्पताल में इलाज का मनमानी पैसा वापस करवाये थे। श्री कुणाल सकारात्मक भारत आंदोलन चला रही 25राज्यों की आरजेएस पाॅजिटिव मीडिया से पिछले अक्टूबर से जुड़े हैं। इन्हें दिल्ली में 24 जनवरी 2020को आरजेएस स्टार अवॉर्ड घोषित हुआ है ।इसी महीने अप्रैल में रतनाढ़ के आइडियल एजुकेशन सेंटर में आरजेएस राष्ट्रीय संयोजक उदय कुमार मन्ना की उपस्थिति में इन्हें ये अवार्ड प्रदान किया जाएगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY